#

#

दमी डीठम नद वहवनी, दमी डयूठुम सुम नत तार। दमी डीठम थर फवलवनी, दमी डीयूठुम गुल नत खार।। Now I saw a river flowing, Now neither a bridge nor a ferry. Now I saw a plant in full bloom, now neither a flower nor a thron to be seen.

भवान्भीष्मश्च कर्णश्च कृपश्च समितिञ्जय: | अश्वत्थामा विकर्णश्च सौमदत्तिस्तथैव च || 8|| आप द्रोणाचार्य और पितामह भीष्म तथा कर्ण और संग्राम विजयी कृपाचार्य तथा वैसे ही अश्र्वत्थामा, विकर्ण और सोमदत्त का पुत्र भूरिश्रवा।। ८।। There are personalities like yourself, Bheeshma, Karna, Kripa, Ashwatthama, Vikarn, and Bhurishrava, who are ever victorious in battle. (8)  श्रीमद्भगवद्गीता अध्याय पहला श्लोक.।।८।।

professional logo
 
 
 
Themes :-

दिखावा, नियम, प्रेम, अकेला, अनादि, अनुभवों, अपूर्ण, अभिलाषा, अल्प, अवसर, अविनाशी, असत्य, अहिंसा, आचरण, आत्मविश्वास, आत्मा, आदर, इच्छा, इज्जत, उत्तम, उपदेश, कठिन, कर्तव्य, कर्म, खर्चीली, गरम, चोट, छल, छिप, जिन्दगी, जीता, जीवन, ज्ञान, तरीका, तैर, दया, दरिद्र, दुख, दुर्बलता, दोषयुक्त, द्वेष, धोखा, नष्ट, नाकामयाबियों, परिश्रम, पाखण्ड, पात्र, पाप, प्रभावित, प्रवाह, प्रेम, बहादुरी, भाग्य, भाव, मधुर, मर्यादा, मानव, मुक्ति, रात्रि, राष्ट्र, वचन, वर्षों, वाणी, विकारहीन, विचार, वृद्धावस्था, वैर, व्यवस्थित, शरीर, शाश्वत, शिक्षा, शीतल, शुभ, संकल्प, संघर्ष, संयम, सच, सत्य, सफलता, समुद्र, सरल, सरिता, सर्वव्यापी, सहज, साहित्य, सुख, सुधारक, सुन्दरता, सूर्यास्त, सूर्योदय, स्वभाव, हृदय,

© 2018 - All Rights Reserved